Logo
MPDAGE Logo

कौशल विकास

संचालनालय कृषि अभियांत्रिकी के द्वारा प्रदेष मे पांच कौषल विकास केन्द्र स्थापित किये गये है जिनमें ग्रामीण युवाओं को कौषल विकास के प्रषिक्षण दिये जा रहे है। ये केन्द्र व्ही.टी.पी (Vocational Training Provider) के नाम से जाने जाते है तथा भारत सरकार की संस्था ASCI (Agriculture Skill Council of India) के अधीन पंजीकृत है। सभी कौषल विकास केन्द्र संचालनालय की संभागीय कर्मषालाओं में स्थापित है। यह केन्द्र निम्नानुसार है -
 
केन्द्र
दूरभाष
संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला बड़वई, नई जेल रोड, भोपाल
0755 - 2736200
संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, मेला ग्राउंड के सामने, ग्वालियर
0751 - 2364595
संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, सिविल लाईन, पन्ना नाका, सतना
07672 - 222223
संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, संजय नगर, आधारताल, जबलपुर
0761 - 2680928
संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, तहसील के पास, बरिया, तिराहा, सागर
07574 - 227254
कौशल विकास प्रषिक्षण के मुख्य बिंदु निम्नानुसार है -
  • केन्द्रों में प्रधानमंत्री कौषल विकास योजना (PMKVY) अंतर्गत स्वीकृत कोर्स माॅड्यूल में प्रशिक्षण प्रदाय किया जाता है। प्रशिक्षण प्राप्त व्यक्ति को भारत सरकार का प्रमाण-पत्र दिया जाता है जिसकी मान्यता संपूर्ण भारत में है।
  • प्रशिक्षण में ट्रेक्टर, हार्वेस्टर एवं कृषि यंत्रों के रख-रखाव तथा संचालन के संबंध में प्रायोगिक प्रशिक्षण भी प्रमुखता से दिया जाता है। इस हेतु ट्रेक्टर निर्माता कंपनियों महिन्द्रा एंड महिन्द्रा, जाॅन डियर, सी.एन.एच प्रा.लि. से तकनीकी प्रशिक्षण दिये जाने का अनुबंध भी किया गया है।
  • प्रशिक्षण प्राप्त व्यक्ति सरलता से स्व-रोजगार प्रारंभ कर सकता है, स्व-रोजगार प्रारंभ करने के लिये इस प्रमाण-पत्र के आधार पर बैंक ऋण भी स्वीकृत कर सकते है।
क्रमांक
उपलब्ध पाठ्यक्रम
अवधि
योग्यता
प्रशिक्षण केन्द्र
1- क्यूपी-एजीआर/क्यू 1108 - ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्रों की सामान्य सर्विसिंग, मरम्मत एवं संचालन 200 घंटे दसवीं एवं 18 वर्ष भोपाल, ग्वालियर, सतना, जबलपुर, एवं सागर केन्द्रों पर उपलब्ध है।
2- क्यूपी-एजीआर/क्यू 1102 - कंबाईन हार्वेस्टर की सामान्य सर्विसिंग एवं संचालन 200 घंटे दसवीं एवं 18 वर्ष वर्तमान में भोपाल केन्द्र पर उपलब्ध है।

कौशल विकास प्रशिक्षण कैसे प्राप्त करें
ग्रामीण युवा अपने निकट के कौशल विकास केन्द्र में दो तरीके से कौशल विकास प्रशिक्षण हेतु पंजीयन करा सकते है -

  • स्वयं के जिले के ग्रामीण आजीविका मिशन कार्यालय में इस हेतु पंजीयन करा सकते है। इस तरह से पंजीकृत ग्रामीण युवाओं की सामान्य परीक्षण उपरांत प्रशिक्षण हेतु ले लिया जाता है।
  • निकट के कौशल विकास केन्द्र में कृषि यंत्री कार्यालय में साधारण कागज पर अपना आवेदन प्रस्तुत कर सकते है। आगामी प्रशिक्षण प्रारंभ होने के समय कृषि यंत्री कार्यालय द्वारा सभी प्राप्त आवेदनों का सामान्य परीक्षण किया जाकर आवेदकों को प्रशिक्षण में शामिल कर लिया जाता है।
    कौशल विकास प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरांत प्रमाण-पत्र प्राप्त करने के लिये प्रत्येक प्रशिक्षणार्थी की एक परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है जो वाह्य संस्था द्वारा आयोजित की जाती है। उत्तीर्ण प्रशिक्षणार्थीं को भारत सरकार द्वारा प्रमाण-पत्र प्रदाय किया जाता है।
          प्रशिक्षण शुल्क -
  • प्रशिक्षण पूर्णतः निःशुल्क है।
  • प्रशिक्षणार्थी के रहने, भोजन, परीक्षा शुल्क आदि पर होने वाला संपूर्ण व्यय शासन द्वारा वहन किया जाता है।

कौशल विकास केन्द्रों पर प्रशिक्षण प्राप्त प्रशिक्षणार्थीयों का प्रगति पत्रक

केन्द्र वर्ष 2017-18 वर्ष 2018-19 (फरवरी अंत 2019 की स्थिति)
कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला बड़वई, भोपाल 100 322
कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, मेला ग्राउंड के सामने, ग्वालियर 75 266
कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, सिविल लाईन, सतना 75 210
कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, आधारताल, जबलपुर 162 339
कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, सागर 240 235
योग 652 1372